December 11, 2017 6:51 pm

आनंद शर्मा व विप्लव ठाकुर है एससी-एसटी आयोग विरोधी : गहलोत

हिमाचल न्यूज़ शिमला। हिमाचल भाजपा के चुनाव प्रभारी व केंद्र में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने राष्ट्रीय स्तर पर अनुसूचित जाति, जनजाति आयोग का गठन ही नहीं होने दिया। हिमाचल के दो नेताओं आनंद शर्मा Thavr Chand Gehlotऔर विप्लव ठाकुर ने राज्य सभा में इसका डटकर विरोध किया, जिसके चलते इस आयोग से संबंधित विधेयक लोकसभा में पारित होने के बाद भी राज्यसभा में पास नहीं हो सका। शिमला में पत्रकार वार्ता के दौरान उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने हर राज्य को बिना किसी भेदभाव के आर्थिक सहायता जुटाई है। हिमाचल को पहले 32 फीसदी सहायता केंद्रीय खजाने से मिलती थी, जिसे मोदी सरकार ने 42 प्रतिशत किया। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति सब प्लान में भारी वृद्धि मोदी सरकार ने की है, इसे 16.2 प्रतिशत की जगह 20 फीसदी से ज्यादा राज्यों को दिया गया है। केंद्र सरकार ने देश में मैला ढोने की प्रथा को पूरी तरह से खत्म कर दिया है। इसमें कार्यरत लोगों को 40 हजार रुपए एकमुश्त देकर स्वरोजगार से जोड़ा गया है। प्रधानमंत्री जन-धन योजना से गरीब व अभावग्रस्त व्यक्ति का भला हुआ है।

          उन्होंने दावा किया कि प्रदेश में भाजपा तीन-चौथाई बहुमत से सरकार बनाएगी। पत्रकारों द्वारा एक सवाल के जबाव में गहलोत ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा के दो दर्जन से भी ज्यादा बागी मैदान में थे। इस बार पार्टी में ऐसी समस्या ज्यादा नहीं है। ऐसे पांच-छह प्रत्याशियों को मनाया जा रहा है, जबकि कांग्रेस में ऐसे दो दर्जन से भी ज्यादा बागी प्रत्याशी हैं। एक अन्य सवाल के जबाव में गहलोत ने कहा कि भाजपा जातिगत समीकरणों पर विश्वास नहीं रखती है। बावजूद इसके प्रदेश में 27 फीसदी अनुसूचित जाति, जनजाति और 17 से 18 फीसदी अन्य पिछड़ा वर्गों के कल्याण के लिए केंद्र ने जो योजनाएं शुरू की हैं, उससे पूरी उम्मीद है कि यह वर्ग हिमाचल में भाजपा को सहयोग देगा।

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *