August 17, 2017 5:09 pm

टौंस बस दुर्घटना, 46 यात्रियों की मौत

चौपाल से विमल शर्मा की रिपोर्ट



चौपाल उपमंडल के नेरवा थाने के अंतर्गत एक निजी बस के टौंस नदी में एक बस के गिरने से 46 यात्रियों की मौत हो गई। बस में 56 यात्री सवार थे। अन्य यात्रियों को भी गंभीर चोटें आई हैं। 10 से ज्यादा घायलों को स्‍थानीय अस्पताल ले जाया गया है। इनमें कई लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस के अनुसार हादसा सुबह करीब 11 बजे हुआ है। प्रारंभिक सूचना के अनुसार उत्तराखंड की एक निजी बस में 56 से ज्यादा लोग सवार थे। ताजा सूचना के अनुसार पुलिस ने अब तक नदी से 46 लोगों के शव बरामद कर लिए हैं। इनमें कई बच्चे और महिलाएं भी शामिल बताए जा रहे हैं। फिलहाल पुलिस और प्रशासन की टीमें मौके पर पहुंचकर रेस्‍क्यू ऑपरेशन चला रही हैं। त्यूणी एसएचओ के Tons Bus Accident अनुसार प्राइवेट बस उत्तराखंड के विकासनगर (देहरादून) से त्यूणी जा रही थी। मगर सुबह करीब 11 बजे अचानक गुम्मा के पास बस बेकाबू होकर टौंस नदी में जा गिरी। हादसे का पता सबसे पहले स्‍थानीय लोगों को चला। इसके लोगों ने पुलिस को सूचना दी। बताया जा रहा है कि हादसे के दौरान एक व्यक्ति ने बस से छलांग लगा दी। उसे मामूली चोटें आई हैं। कई लोग घायल हैं, जिन्हें अस्पताल ले जाया जा रहा है। हादसे में मृतकों का आंकड़ा अभी बढ़ सकता है। हादसा कैसे इसके कारणों का पता लगाया जा रहा है। बस में सवार ज्यादातर हिमाचल और उत्तराखंड दोनों जगहों के लोग सवार थे। उत्तराखंड और हिमाचल की सीमा में होने के कारण हिमाचल और उत्तराखंड की ओर से संयुक्त रूप से रेस्क्यू चलाया गया।

मरने वालों में 10 उत्तराखंड और 36 हिमाचल के
मरने वालों की सूची में उतराखंड के में 10 लोग शामिल है है जबकि अन्य हिमाचल के हैं। मृतकों में चंदन सिंह पुत्र साधु, राधा पुत्री साधु, अजब सिंह पुत्र कुरवी, राजेश पुत्र दौलत, रमोस पुत्र हरिचंद पुन्नू पुत्र सुक्खू, रितिक पुत्र चंदन सिंह , अंकुश, सुमित्रा पत्नी नंद किशार, कृतिका पत्नी कांगड़ा सिंह, सरना चौहान पत्नी पुद्धि सिंह, नंद किशोर पुत्र माया राम, शकुंतला पत्नी सोनू, नंद किशोर का बच्चा, सोहन पुत्र चतरु राम, दिव्या पत्नी सोनू, प्रोमिला, वीरेंद्र पुत्र जीवन दास, कमली पुत्री जीवन दास, टराची, पुत्री नंद किशोर शामिल हैं

 

बस कंडक्टर गिरफ्तार
टौंस बस हादसे के बाद गायब हुए बस कंडक्टर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया है. बताया जा रहा है कि उत्तराखंड निवासी बस कंडक्टर तुलसीराम हादसे के बाद से मौके से गायब हो गया था। वहीं, कुपवी निवासी राजेंद्र सिंह भी गायब चल रहा है। पुलिस का कहना है कि दोनों मौके से फरार थे। उत्तराखंड पुलिस इससे पूछताछ कर रही है।

कंडक्टर ने बताया बस में सवार थे 46 लोग
बस कंडक्टर तुलसीराम का कहना है कि बस में 46 लोग सवार थे और उसके साथ एक और व्यक्ति ने छलांग लगाई थी। हादसा कैसे हुआ अभी इसका पता नहीं चल पाया है।

राज्यपाल और मुख्यमन्त्री ने हादसे पर जताया शोक
हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत तथा मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने बस दुर्घटना में मारे गए यात्रियों की मौत पर गहरा शोक व्यक्त किया है। राज्यपाल ने अपने शोक संदेश में मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की है तथा दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए प्रार्थना की है। मुख्यमंत्री ने शोक संतप्त परिवारों से गहरा शोक प्रकट किया है। उन्होंने घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की भी कामना की है। साथ ही सीएम ने दुर्घटना में प्रभावित परिवारों तथा घायलों को हर संभव सहायता प्रदान करने के लिए जिला प्रशासन को निर्देश दिए हैं।

उत्तराखंड के मुख्यमन्त्री घटना स्थल पर
हादसे की सूचना मिलने के बाद उत्तराखंड के मुख्यमन्त्री त्रिवेंद्र सिंह भी मौके पर पहुंचे हैं। हादसे के बाद रावत ने मृतकों के परिजनों को एक लाख रुपए, गंभीर घायलों को पचास हजार और आंशिक रूप से घायलों को 25 हजार रुपए देने की घोषणा की है। सीएम त्रिवेंद्र रावत ने इस घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया है और सभी तरह की मदद का भरोसा जताया है।

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *