December 11, 2017 6:54 pm

भ्रष्टाचार और सुखराम की एंट्री भाजपा को लताड़ खूब लताड़ लगाई गोगोई ने

Arun Gogoi

हिमाचल न्यूज़ (शिमला) कांग्रेस के युवा सांसद गौरव गोगोई और राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी ने कहा है कि पंडित सुखराम को शामिल करने के बाद भाजपा की भ्रष्टाचार की परिभाषा बदल गई है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचारियों के भाजपा में जाते ही उन पर लगे आरोप खत्म हो जाते हैं। शिमला में पत्रकारों से बातचीत में कांग्रेस के दोनों नेताओं ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक की भाजपा के प्रचारकों की लंबी फौज से लड़ने के लिए मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह अकेले ही काफी हैं। गौरव गोगोई और राजीव त्यागी ने कहा कि मोदी सरकार को सत्ता में आए साढ़े तीन साल हो चुके हैं, लेकिन न तो कारगिल शहीद सौरव कालिया के परिजनों को न्याय मिल पाया है और न ही सेब पर आयात शुल्क बढ़ा है। ऐसे में प्रदेश की जनता भाजपा को कभी सत्ता में नहीं आने देगी। उन्होंने कहा कि जीएसटी और नोटबंदी के फैसले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की अर्थव्यवस्था को बहुत बड़ा झटका दिया है। प्रधानमंत्री पर देश की अर्थव्यवस्था की दुर्दशा करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि पिछले 10 वर्षों में मोदी के कार्यकाल में सबसे कम रोजगार सृजन हुआ है। भाजपा के झूठ और जुमलों से देश की जनता तंग आ चुकी है, क्योंकि भाजपा का हर जुमला झूठ साबित हुआ है। भाजपा खुद अपना आत्मविश्वास खो चुकी है कि वह पांच साल में कुछ नहीं कर पाएगी, इसलिए वर्ष, 2022 की बात कर रही है। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि पूरा विश्व जहां 2008 की आर्थिक मंदी के बाद अब धीरे-धीरे उभर रहा है, वहीं देश की अर्थव्यवस्था प्रधानमंत्री मोदी के गलत फैसलों के कारण और खराब होती जा रही है। यही कारण है कि देश की जनता ने अब मान लिया है कि अच्छे दिन नहीं, बल्कि बुरे दिन आ गए हैं।

नड्डा के डंडे से धूमल की धूल निकल गई, शांता की शाति भंग हो गई तथा इसके बीच जम्वाल जम गए हैं: त्यागी 
पत्रकार वार्ता में कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी ने स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी से भी पूछा है कि गोरखपुर अस्पताल में इसी साल हुई एक हजार से अधिक बच्चों की मौत के लिए कौन जिम्मेदार है। इन नेताओं ने कहा कि प्रदेश से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर कांग्रेस और भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवारों के बीच बहस होनी चाहिए। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा इसलिए मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं कर रही है, ताकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रिमोट कंट्रोल से दिल्ली से प्रदेश सरकार चला सकें। उन्होंने कहा कि कांग्रेस रिमोट कंट्रोल की राजनीति की इस संस्कृति के खिलाफ है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि नड्डा के डंडे से धूमल की धूल निकल गई, शांता की शाति भंग हो गई तथा इसके बीच जम्वाल जम गए हैं।

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *