December 11, 2017 6:50 pm

हिमाचल विधानसभा चुनाव : इनकी प्रतिष्ठा है दांव पर

हिमाचल न्यूज़ शिमला। इस बार के विधानसभा चुनाव में प्रदेश के मुख्यमंत्री सहित उनके आठ मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर है। ज्यादातर मंत्री virचुनाव क्षेत्रों से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। चुनाव कितना रोचक व चुनौतीपूर्ण है, यह उसकी मिसाल हो सकती है। इस बार दोनों ही दलों के समक्ष लक्ष्यों को लेकर बड़ी चुनौतियां हैं। भाजपा मिशन 50 प्लस लेकर आगे बढ़ रही है, जबकि कांग्रेस मिशन रिपीट के साथ ताल ठोंक रही है। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह का चुनाव क्षेत्र बदला है। वह शिमला ग्रामीण से हट कर अर्की से चुनाव लड़ रहे हैं। भाजपा ने यहां पूरा दमखम लगा रखा है कि मुख्यमंत्री के कदम रोके जाएं। जाहिर तौर पर जीत-हार का आंकड़ा प्रतिष्ठा से जुड़ा होगा। छह बार के मुख्यमंत्री व 53 साल का लंबा राजनीतिक तजुर्बा इस सीट पर उनके लिए क्या अंक गणित बिठाएगा, इस पर सभी की नजरें हैं। कांग्रेस के आठ मंत्री अपने चुनाव क्षेत्र से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। ये ऐसे मंत्री हैं, जिन्हें प्रदेश में दिग्गजों की श्रेणी में शुमार किया जाता है। इनसे उम्मीद भी पार्टी के वर्कर्ज को यही रहती है कि खुद के चुनाव क्षेत्र से निश्चिंत होकर अन्य प्रत्याशियों का चुनाव जिताने के लिए मदद करें, मगर पांच साल के बाद ऐसा दिख नहीं रहा। अपने-अपने चुनाव क्षेत्रों में सरकार के मंत्री फंसे हुए दिख रहे हैं। यानी अपने हलके का प्रचार छोड़ कर दूसरे हलके में आने की कोई सूचना तक नहीं है।

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *